top of page
  • मनीष सिरमौरी

दिल्ली की इस पर्यटक को नहीं पसंद आई गंदगी, खुद ही कर डाली झरने के पास सफाई

दि शिरगुल टाईमस (मनाली)

साफ-सफाई हर एक व्यक्ति को पसंद है, अपने घर को हर कोई व्यक्ति साफ सुथरा रखना पसंद करता है, परंतु जब बात बाहरी गली, मोहल्ले व सड़कों की होती है, तो गंदगी देखकर हर कोई नाक मुंह सिकुड़ता नजर आता है। जबकि इस गंदगी को फैलाने में हम सभी शामिल रहते है। लेकिन दिल्ली की रहने वाली खुशबू ऐसा नहीं सोचती है वह अपने आसपास के हर क्षेत्र को साफ-सुथरा देखना चाहती हैं, गली मोहल्ला, शहर हो या कोई राज्य, खुशबू जहां जाती है वहीं लोगों को साफ सफाई रखने का संदेश तो देती ही है, साथ ही उस क्षेत्र में फैली गंदगी को भी साफ करने में पीछे नहीं हटती है। ऐसा ही कुछ उन्होंने मनाली में किया बीते दिनों खुशबू अपने पित मनीष झाँ के संग छुट्टियां बिताने के लिए मनाली में आई।

मनाली के फेमस झरने के पास फैली गंदगी को देख वह बहुत निराश हुई और उन्होंने बिना देरी किए वहां की साफ सफाई शुरू कर दी आसपास के लोगों ने जब यह देखा उनकी तारीफ किए बिना नहीं रह सके। लोगों ने बताया कि आमतौर पर जब भी यहां पर्यटक आते हैं, तो साथ में कोल्ड ड्रिंक की खाली बोतले चिप्स के रैपर, फलों के टुकड़े ऐसे ही फेंक देते हैं जिससे पर्यटक स्थल गंदा दिखता है, परंतु खुशबू ने ऐसा नहीं होने दिया उन्होंने पर्यटकों को भी इस प्रकार की गंदगी फैलाने वाली गतिविधियों को ना करने के लिए आग्रह भी किया। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश एक खूबसूरत राज्य है, यहां पर प्रकृति का चित्रण इतना प्यारा है कि मन मोह लेता है। ऐसे चित्र को भला कोई कैसे खराब कर सकता है।

हमें अपनी प्रकृति की रक्षा करनी चाहिए नेचर को गंदगी व प्रदूषण से दूर रखना चाहिए यह हमारा सौभाग्य है कि हिमाचल प्रदेश जैसा हरा भरा खूबसूरत राज्य हमारे देश में है, जहां पर हम लोग शांत प्रकृति से मुलाकात करने के लिए आते हैं। ऐसे में यह हमारा फर्ज होता है कि हम पर्यटक इस इन स्थलों का ख्याल रखें, गंदगी और प्रदूषण से दूर रखे। बता दे की खुशबू दिल्ली की रहने वाली है जोकि अपने पति मनीष के साथ मनाली भ्रमण पर आई हुई है। खुशबू एक इनफ्लुएंसर है , जोकि अपनी यूट्यूब वीडियो के माध्यम से प्रकृति व गार्डनिंग को लेकर साफ सफाई के लिए प्रेरित करती रहती है।


खुशबू गौर झा एक प्रकृति प्रेमी हैं। वह अपने छोटे से बगीचे में 200 से अधिक प्रजातियों के पौधे लगा हुए हैं , वह लोगों को प्रकृति प्रेमी बनने के लिए प्रोत्साहित करती रही हैं।

वह बागवानी और प्रकृति के साथ एक मजबूत बंधन विकसित करने पर लाइव सत्र देकर लोगों को प्रोत्साहित करती रही हैं।10 से अधिक वर्षों तक काम करने के बाद, उन्होंने वर्ष 2016 में प्रकृति और दुनिया की बेहतरी की दिशा में काम करना शुरू किया।

उनका उद्देश्य है कि हर कोई प्रकृति के प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाए और अपने बच्चों के लिए जगह को साफ सुथरा रख कर, पेड़-पौधे लगाकर रहने लायक बनाएं। वह कहती हैं, "दिल ही महत्वपूर्ण है और प्रकृति दिल है"।

उन्हें कई प्रासंगिक संगठनों द्वारा भी पहचाना और पुरस्कृत किया गया है।

वह इस सेगमेंट में एक बड़ी सोशल मीडिया इन्फ्लुएंसर भी हैं।


42 views0 comments
bottom of page