top of page
  • Writer's pictureमनीष सिरमौरी

पेपर लीक जेओए आईटी 939 मामले में चपरासियों ने भर दी थी ओएमआर शीट: विजीलेंस ब्यूरो

हिमाचल सरकार द्वारा बंद कर दिए गए हमीरपुर कर्मचारी चयन आयोग में सिर्फ पेपर लीक का ही धंधा नहीं चल रहा था, बल्कि इसमें पेपर हो जाने के बाद ओएमआर शीट में टेंपरिंग से नौकरियां बांटने का खुलासा भी हुआ है। फॉरेंसिक जांच से मामला खुलने के बाद जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 939 की परीक्षा भी फंस गई है। खुलासा हुआ है कि आयोग में परीक्षा ड्यूटी पर तैनात चपरासी ओएमआर शीट में छेड़छाड़ करते थे। चार लोगों पर विजिलेंस ब्यूरो ने एफआईआर दर्ज कर दी है। एफआईआर में दर्ज डिटेल के मुताबिक जूनियर ऑफिस असिस्टेंट 965 की जांच के दौरान ही ओएमआर शीट में टेंपरिंग का संदेह हुआ था। पोस्टकोड 939 के मामले में कर्मचारी चयन आयोग में तैनात दो चपरासी किशोरी लाल और मदन लाल ने दो उम्मीदवारों की ओएमआर शीट के साथ छेड़छाड़ की और उन्हें चयनित होने में मदद की है। इनमें एक प्रत्याशी मदनलाल का बेटा है और एक उसका पड़ोसी है।

इसी पोस्ट कोड में उमा आजाद की भतीजी और दो अन्य लोगों ने असाधारण रूप से उच्च अंक हासिल किए हैं। ओएमआर शीट से छेड़छाड़ करने के आरोप में विजिलेंस ने कर्मचारी चयन आयोग दो चपरासियों समेत चार लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। जानकारी के अनुसार विजिलेंस ने जेओए आईटी पोस्ट कोड 965 के पेपर लीक मामले की जांच के आधार पर मामला दर्ज किया है। जेओए आईटी पोस्ट कोड 939 का पेपर जो 24 फरवरी 2022 को आयोजित किया गया था। चारों आरोपियों के खिलाफ 420, 465, 468, 471, 120बी आईपीसी के तहत केस दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

26 views0 comments

Comments


bottom of page