• KAVI RAJ CHAUHAN

मुख्यमंत्री ने उप-तहसील नगरोटा सूरियां को तहसील में स्तरोन्नत करने की घोषणा की

कविराज चौहान (दि शिरगुल टाइम्स शिमला)

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कांगड़ा जिले की उप-तहसील नगरोटा सूरियां को तहसील में स्तरोन्नत करने की घोषणा की और ज्वाली निर्वाचन क्षेत्र में 161.58 करोड़ रुपये की लागत से लोक निर्माण विभाग और जल शक्ति विभाग की 21 विकास परियोजनाओं के शिलान्यास और लोकार्पण किए।

उन्होंने लोक निर्माण विभाग मण्डल ज्वाली के अन्तर्गत तीन परियोजनाओं के लोकार्पण तथा 10 परियोजनाओं के शिलान्यास किए। उन्होंने नगरोटा सूरियां में 6.17 करोड रुपये की लागत से निर्मित राजकीय महाविद्यालय भवन और अटल आदर्श विद्यालय कोटला का लोकार्पण किया। उन्होंने 3.66 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले करोटा बनतुंगली शहीद संगत सिंह के घर तक सम्पर्क मार्ग, 5 करोड़ रुपये की लागत से राजकीय महाविद्यालय ज्वाली के भवन, 5.47 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नगरोटा सूरियां के अतिरिक्त भवन, 6.42 करोड़ रुपये की लागत से नागरिक अस्पताल ज्वाली के अतिरिक्त खंड, 7.04 करोड़ रुपये की लागत से राजोल अनुही बग्गा मार्ग, 5.55 करोड़ रुपये की लागत से हरनोटा से जिंजपुर मार्ग, 4.03 करोड़ रुपये की लागत से गिरन खड्ड नोड कुट जरपाल अपर अमलेला से अमलेला सड़क, 7.43 करोड़ रुपये की लागत से सिद्धपुरघाड़ भल्लाड़ सड़क, 2.92 करोड़ रुपये की लागत से मानव भारती स्कूल नधोली से रुपाटा तक सम्पर्क मार्ग, 4 करोड़ रुपये की लागत से ग्राम पंचायत हार की खब्बल गौ अभ्यारण्य का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने जल शक्ति विभाग की विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं की आधारशिलाएं भी रखीं। इनमें 40.77 करोड़ रुपये की लागत से ज्वाली मण्डल के अंतर्गत विभिन्न जलापूर्ति योजनाओं के संवर्धन कार्य, 29.66 करोड़ रुपये की लागत से नगरोटा सूरियां खण्ड के विभिन्न गांवों के लिए घाड़-जरोट उठाऊ जलापूर्ति योजना और अन्य बहु ग्रामीण जलापूर्ति योजना, 15.76 करोड़ रुपये की लागत से ज्वाली में शहरी पेयजल आपूर्ति योजना, 6.57 करोड़ रुपये की लागत से आंशिक रूप से कवर की गई पलौरा लुधियार आदि गांवों की बस्तियों के लिए उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना, 2.56 करोड़ रुपये की लागत से आंशिक रूप से कवर की गई पलानथ, मनारा और देहरी आदि गांवों की बस्तियों के लिए उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजना और 5.89 करोड़ रुपये की लागत से सिद्धपुरघाड़ की आंशिक रूप से कवर की गई बस्तियों के लिए उठाऊ पेयजल आपूर्ति योजनाओं के शिलान्यास किए।

इसके पश्चात, मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने नगरोटा सूरियां बस स्टैंड में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए ज्वाली निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को तीव्र गति से विकास करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में चहुंमुखी विकास बिना किसी भेदभाव के किया जा रहा है। उन्होंने कोविड-19 संकट के बीच केन्द्र और राज्य सरकारों को समर्थन देने और विभिन्न प्राधिकरणों द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों का पालन करने के लिए लोगों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस संकटकाल से राष्ट्र को बाहर निकाला और जीवंत, पारदर्शी और गतिशील नेतृत्व प्रदान किया। उन्होंने कहा कि उत्कृष्ट नेतृत्व के फलस्वरूप प्रधानमंत्री विश्व नेता के रूप में उभरे हैं। श्रीराम मंदिर निर्माण, धारा 370 और 35 (ए) के निरस्तीकरण, सीमाओं पर गतिरोध आदि जैसे दशकों पुराने मुद्दों का हल उन्होंने अपने मजबूत और कुशल नेतृत्व से निकाला है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान देश भर में, विशेषकर कोटा, गोवा और दक्षिणी राज्यों में फंसे छात्रों, कामगारों और उद्यमियों सहित 2.5 लाख से अधिक लोगों की घर वापसी करवाई गई। उन्होंने कहा कि विभिन्न महिला मंडलों, यूथ क्लबों, गैर सरकारी संगठनों और व्यक्तियों ने प्रदेश में जरूरतमंदों को मास्क, सैनिटाइजर और मुफ्त राशन वितरित किया। उन्होंने कहा कि सभी प्रदेशवासियों ने महामारी पर काबू पाने के लिए संयुक्त रूप से कार्य किया। उन्होंने कहा कि आज भारत प्रतिदिन 6 लाख से अधिक पीपीई किट बना रहा है। उन्होंने कहा कि भारत एन-90 मास्क, पीपीई किट और कोरोना वैक्सीन के उत्पादन में आत्मनिर्भर बन गया है। उन्होंने आवश्यकता पड़ने पर प्रदेश को 500 वेंटिलेटर देने के लिए प्रधानमंत्री का धन्यवाद किया। उन्होंने लोगों से टीकाकरण अभियान में सहयोग करने का अनुरोध भी किया। उन्होंने कहा कि सभी कठिनाइयों के बावजूद देश को आगे बढ़ाना होगा और हमें राष्ट्र को शिखर पर ले जाने के लिए प्रयास करने होंगे।

विपक्ष पर तंज कसते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विपक्ष ने कोरोना संकट के दौरान प्रदेश सरकार का सहयोग के बजाय सरकार की आलोचना ही की और किसी प्रकार की सहायता नहीं की। उन्होंने राज्य में लोकसभा आम चुनाव-2019 में भाजपा को सभी सीटें देने और हाल ही में संपन्न हुए पंचायती राज संस्थाओं के चुनावों में बहुमत प्रदान करने के लिए लोगों का धन्यवाद किया। उन्होंने विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं और कार्यक्रमों जैसे जन मंच, सामाजिक सुरक्षा पेंशन मुख्‍यमंत्री सेवा संकल्प योजना, हिमकेयर योजना, सहारा योजना आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होेंने कहा कि 65 वर्ष की आयु होने पर महिलाओं को 1000 रुपये की सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्रदान की जा रही है, जो 70 वर्ष की उम्र में बढ़कर 1,500 रूपये हो जाएगी। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार राज्य में बिना किसी भेदभाव के आम आदमी को राहत देने में विश्वास रखती है। उन्होंने कहा कि हिम केयर के तहत मरीजों के इलाज पर 150 करोड़ रुपये खर्च किए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि चालू वित्त वर्ष के दौरान राज्य में आवासहीन लोगों के लिए 12,000 घरों का निर्माण किया जाएगा।

जय राम ठाकुर ने राजकीय उच्च पाठशाला नदोली को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में स्तरोन्नत, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, नगरोटा सूरियां में बिस्तरों की क्षमता को बढ़ाकर 50 करने और मतलाहड़ से समलाना, सफेदा मोड से सोल्दा, हरिजन बस्ती माता घाट से सिहुनी और डबाई से न्योल सड़क के लिए 10-10 लाख रुपये की घोषणा की। उन्होंने कहा कि घाड़-जरोट पर रेल पुल के निर्माण के मामले को केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल के समक्ष रखा जाएगा और सीआरएफ के तहत देहरा-ज्वाली सड़क के सुधारीकरण के लिए संभावनाएं तलाशी जाएंगी। उन्होंने कहा कि व्यावसायिक कक्षाएं सभी औपचारिकताएं पूर्ण करने के उपरांत शुरू की जाएंगी। उन्होंने बाई-पास सड़क को स्तरोन्नत करने की मांग पर विचार करने का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि नगरोटा सूरियां के लिए पहले से ही पुलिस चैकी स्वीकृत कर दी गई है।

सांसद किशन कपूर ने भी इस अवसर पर लोगों से संवाद किया। उन्होंने लोगों को केन्द्र सरकार की विभिन्न कल्याणकारी और विकासात्मक योजनाओं, नीतियों, कार्यों एवं परियोजनाओं के बारे में भी अवगत करवाया।

स्थानीय विधायक अर्जुन सिंह ने मुख्य अतिथि और अन्य उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करते हुए ज्वाली विधानसभा क्षेत्र के लिए विभिन्न विकासात्मक कार्यों के लोकार्पण और आधारशिलाएं रखने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने क्षेत्र की विभिन्न विकासात्मक और कल्याणकारी मांगों का भी ब्यौरा दिया, जिनमें सड़कें, घाड़-जरोट पर रेल पुल का निर्माण बाई-पास और स्कूलों में विज्ञान प्रयोगशालाएं, स्कूलों और अस्पतालों के स्तरोन्यन के अलावा रिक्त पदों को भरना आदि शामिल है।

3 views0 comments